कंगना रनौत ने आमिर खान की PK फिल्म का सीन किया शेयर, कहा ‘यह मेरी आध्यात्मिकता को परेशान नहीं करता, शिव पर मेरा विश्वास अटूट है…

बॉलीवुड की कंट्रोवर्शियल और ड्रामा क्वीन कही जाने वाली कंगना रनौत हमेशा से अपना बयान की वजह से चर्चा में रहती है। हाल ही में उन्होंने एक और ऐसा बयान दिया है जिसके बाद लगातार लोग उनकी आलोचना कर रहे हैं वही काफी लोग साथ भी देते नजर आ रहे हैं। इसके अलावा एक्ट्रेस कंगना रनौत पिछले कुछ समय से काफी सुर्खियां बटोर रही है और इसका मुख्य कारण 20 मई को रिलीज हुई उनकी फिल्म धाकड़ है। यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर बिल्कुल भी काम नहीं कर पाई और उल्टे मुंह गिरी। इस फिल्म में कंगना रनौत के साथ-साथ अर्जुन रामपाल और दिव्या भी दिखाई दिए थे। कंगना रनौत इसके बाद से ही काफी सुर्खियों में है। इस फिल्म ने पहले दिन मात्र 50 लाख रुपए की कमाई की।

फिल्म मेकर्स और डिस्ट्रीब्यूटर इस फिल्म को लेकर काफी दुखी हैं और कंगना रनौत के कैरियर पर यह एक बड़ा दाग है। इसके बाद उनके करियर पर काफी सवालिया निशान भी लग चुके हैं। अब आने वाले समय में इनकी फिल्म को लेकर डिस्ट्रीब्यूटर्स सकते में आ गए हैं। अब एक और बड़ी खबर सामने आई है, जिसके अनुसार कंगना रनौत ने आमिर खान की पीके फिल्म का एक स्क्रीनशॉट शेयर किया है जिसके बाद एक बार फिर चर्चा में आ रही है। आइए जानते हैं क्या है पूरी खबर।

कंगना रनौत ने बीजेपी से निलंबित प्रवक्ता नूपुर शर्मा की पैगंबर मुहम्मद पर आहत करने देने वाली टिप्पणियों पर अल्पसंख्यक समुदाय के विरोध का मजाक उड़ाया है। अभिनेत्री ने आमिर खान की फिल्म पीके के स्क्रीनशॉट के साथ अपने इंस्टाग्राम पर चल रहे विरोध प्रदर्शनों पर अपने विचार साझा किए। इसके बाद से यह विवाद और भी अधिक बढ़ गया है।

कंगना ने फिल्म का एक स्नैपशॉट लिया जिसमे पीके फिल्म में आमिर खान एक मंच अभिनेता को परेशान करता है जो भगवान शिव की भूमिका निभाता है। इसकी कुछ लोगों ने आलोचना की और उन्हें यह क्रम पसंद नहीं आया, क्योंकि इससे उनकी धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुँचती है, हालांकि कंगना ने दावा किया कि ‘हिंदू’ किसी क्रम पर हावी नहीं हुआ, और अब लोग सिर्फ इसलिए हंगामा कर रहे हैं क्योंकि नूपुर ने कुछ ऐसा बोल दिया है।

कंगना ने कहा, “यह एक कारण है कि मैं हिंदू होने से प्यार करती हूं, यहां तक ​​​​कि कुछ भी अप्रिय है क्योंकि यह मेरे शिवम को परेशान नहीं करता है। यह मेरी आध्यात्मिकता या विश्वास को भी परेशान नहीं करता है। सिर्फ इसलिए कि एक महिला ऐसा बोलती है तो गुस्से मे देश को सर पे उठा लिया है, ऐसा खतरनाक व्यवहार किस तरह के लोग करते हैं। “

Leave a Reply

Your email address will not be published.