उर्वशी रौतेला को 45 लाख का गाउन पहनना पड़ा भारी, शरीर पर कई जगह आए चोट के निशान

बॉलीवुड इंडस्ट्री की यंग एक्ट्रेस उर्वशी रौतेला आज किसी पहचान की मोहताज नहीं है। आज के समय उर्वशी रौतेला की सबसे हसीन और खूबसूरत अभिनेत्रियों में गिनती होती है। उन्होंने जहां कहीं भी कदम रखा अपनी खूबसूरती और अदाओं से हर किसी का मन मोह लिया है। हाल ही में उन्हें आइफा अवॉर्ड के दौरान देखा गया था, जहां उनकी ड्रेस देखकर हर कोई उनका दीवाना हो गया। हालांकि इस ड्रेस के कारणों को काफी मुसीबतों का सामना भी करना पड़ा यह बताते हैं। आखिर ऐसा क्या हुआ था जिसके कारण उर्वशी रौतेला चर्चा में बनी हुई हैं।

रिपोर्ट के अनुसार उर्वशी रौतेला आइफा अवॉर्ड्स में जो ड्रेस पहनकर पहुंची उसकी कीमत 45 लाख रुपए बताई जा रही है इतना महंगा आउटफिट उनके ऊपर बेहद खूबसूरत लग रहा था जिसे देखकर हर किसी का दिल उनके लिए ही धड़कने लगा। इतने महंगे गाउन को पहनने के कारण उनके शरीर पर कई जगह चोट के निशान बन गए। लाखों के इस गाउन की खास बात यह है कि गोल्डन कढ़ाई वाला गाउन थाई हाई स्लिट और प्लंगिंग नेकलाइन इसे और भी अधिक खूबसूरत बना रही थी।

इस दौरान उर्वशी रौतेला ने गाउन पहनने के साथ-साथ अपने लुक को कंप्लीट करने के लिए गोल्डन स्टडेड इयररिंग्स और मैचिंग सैंडल पहनी हुई थी। उनके मेकअप की बात करें तो उन्होंने स्मोकी आईशैडो, न्यूट्रल लिप कलर, हाइलाइट कंट्रोल और रेडिएंट कॉम्प्लेक्शन लगाकर खुद को सबसे अलग साबित कर दिया।

खास बात यह रही कि इस दौरान गाउन के काफी लंबी स्लीव्स होने के कारण है उर्वशी रौतेला को काफी परेशानी हो रही थी और इसकी वजह से उन्हें चोट के निशान भी आ गए। एक्ट्रेस ने अवॉर्ड शो में शिरकत देने के बाद इस एक्सपीरियंस के बारे में बताया और कहा कि ‘मैंने अपने जीवन में ऐसा दर्द कभी महसूस नहीं किया इसने मेरे पेट हाथों और पेट पर भी निशान बना दिए हैं।’ गौरतलब है कि उर्वशी रौतेला काफी बार किसी अवॉर्ड फंक्शन में या पार्टी में जाने के लिए सबसे अलग और खूबसूरत ड्रेस पहनती हैं। लेकिन इन्हीं के कारण उन्हें कभी कभी मुसीबतों का सामना भी करना पड़ जाता है।

About Thakkar vishal

I am a Digital Marketer from gandhinagar. I am Capable to run Online Business and Now running newsmodel24.com as Editor. E-mail id : [email protected]

View all posts by Thakkar vishal →

Leave a Reply

Your email address will not be published.