इन तीन खिलाडी की वजह से भारतीय टीम को हार का सामना करना पड़ा।

इन तीन खिलाडी की वजह से भारतीय टीम को हार का सामना करना पड़ा।

 

टीम इंडिया को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ तीन मैचों की वनडे सीरीज में 3-0 से क्लीन स्वीप का सामना करना पड़ा है. इस सीरीज का आखिरी मैच बहुत ही ज्यादा रोमांचित तरीके से खत्म हुआ और टीम इंडिया ये मुकाबला 4 रन से गंवा बैठी. इस पूरी सीरीज में जहां कुछ खिलाड़ियों का प्रदर्शन शानदार रहा वहीं कुछ खिलाड़ी ऐसे भी रहे जिन्होंने बाकी खिलाड़ियों की मेहनत पर भी पानी फेर दिया और टीम को शर्मनाक हार झेलनी पड़ी. अगर भारत की सीरीज हार में कोई सबसे बड़ा विलेन रहा है तो वो और कोई नहीं बल्कि खुद कप्तान केएल राहुल रहे.

राहुल ने पूरे दौरे पर अपनी कप्तानी में कुल 4 मुकाबले हारे. इन तीन टेस्ट मैचों के अलावा राहुल की कप्तानी में टीम इंडिया दूसरा टेस्ट मैच भी हारी. वहीं बल्लेबाजी में भी ये खिलाड़ी कुछ खास नहीं कर पाया और पूरी सीरीज में सिर्फ एक हाफ सेंचुरी लगाई. तीसरे वनडे में भी राहुल सिर्फ 9 रन बनाकर आउट हो गए. अगर सही मायने में टीम इंडिया की हार का कोई सबसे बड़ा गुनहगार रहा तो वो केएल राहुल ही रहे. खिलाड़ी को बार-बार फ्लॉप होने के बावजूद भी हर एक मैच में मौका दिया गया.

 

 

टीम इंडिया की हार में दूसरे सबसे बड़े विलेन टीम के मिडिल ऑर्डर बल्लेबाज श्रेयस अय्यर रहे. पहले मैच में फ्लॉप रहने वाले अय्यर दूसरे मैच में भी सिर्फ 11 रन बनाकर आउट हो गए. वहीं सीरीज के आखिरी मुकाबले में भी ये बल्लेबाज सिर्फ 26 ही रन बना पाया. अगर शुरु से ही श्रेयस अय्यर की जगह सूर्यकुमार यादव को मौका दिया जाता तो शायद सीरीज का रिजल्ट कुछ और हो सकता था. उनकी वजह से एकदम फिर बल्लेबाजी लाइन अप वीक दिखा. जहां अय्यर अच्छा प्रदर्शन करके टीम के लिए इस मैच को समाप्त कर सकते थे,

 

लेकिन वो हर मौके पर नाकामयाब ही रहे. कहना गलत नहीं होगा कि दक्षिण अफ्रीका दौरे के बाद टीम इंडिया के सबसे दिग्गज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार का करियर खत्म हो सकता है. एक समय भारत की गेंदबाजी की जान माने जाने वाले भुवनेश्वर अब टीम की सबसे बड़ी कमजोरी हो गए हैं. भुवी को अब इससे ज्यादा मौके देना भी गलत ही होगा. भुवी एक बार फिर पूरी तरह फ्लॉप रहे. भुवी ने दूसरे वनडे में 8 ओवरों में 67 रन दे डाले और उन्हें एक विकेट भी नहीं मिला. जहां जसप्रीत बुमराह और शार्दुल ठाकुर अफ्रीकी बल्लेबाजों पर दवाब बना रहे थे वहीं भुवी आकर सारे रन दे रहे थे. अब समय आ चुका है कि इस खिलाड़ी को टीम से बाहर का रास्ता दिखा दिया जाए.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.